Global Statics Of

Corona Virus

[covid19 title="Total Cases Of Corona Worldwide" style="3"]

India Statics Of

Corona Virus

[covid19 country="India" title="Total Cases Of Corona In India" style="3"]

क्या हैं ये

कोरोना वायरस

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार भारत, ब्रिटेन और अमरीका समेत कोरोना वायरस कोविड 19 अब दुनिया के 166 देशों में फैल गया है और इसके कारण 12,970 मौतें हो चुकी हैं.

यह एक तरह का जानलेवा वाइरस है लेकिन अगर हमें पता चल जाता है की मरीज में इस वाइरस के लक्सण है तो हम उस मरीज को बचा सकते है।

कैसे फैलता है

ये कोरोना वाइरस

जब कोरोना वायरस से संक्रमित कोई व्यक्ति खांसता या छींकता है तो उसके थूक के बेहद बारीक कण हवा में फैलते हैं. इन कणों में कोरोना वायरस के विषाणु होते हैं.संक्रमित व्यक्ति के नज़दीक जाने पर ये विषाणुयुक्त कण सांस के रास्ते आपके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं.अगर आप किसी ऐसी जगह को छूते हैं, जहां ये कण गिरे हैं और फिर उसके बाद उसी हाथ से अपनी आंख, नाक या मुंह को छूते हैं तो ये कण आपके शरीर में पहुंचते हैं.ऐसे में खांसते और छींकते वक्त टिश्यू का इस्तेमाल करना, बिना हाथ धोए अपने चेहरे को न छूना और संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से बचना इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं.चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार फेस मास्क इससे प्रभावी सुरक्षा प्रदान नहीं करते.

क्या है ये

कोरोना के लक्षण

इंसान के शरीर में पहुंचने के बाद कोरोना वायरस उसके फेफड़ों में संक्रमण करता है. इस कारण सबसे पहले बुख़ार, उसके बाद सूखी खांसी आती है. बाद में सांस लेने में समस्या हो सकती है.वायरस के संक्रमण के लक्षण दिखना शुरू होने में औसतन पाँच दिन लगते हैं. हालांकि वैज्ञानिकों का कहना है कि कुछ लोगों में इसके लक्षण बहुत बाद में भी देखने को मिल सकते हैं.विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार वायरस के शरीर में पहुंचने और लक्षण दिखने के बीच 14 दिनों तक का समय हो सकता है. हालांकि कुछ शोधकर्ता मानते हैं कि ये समय 24 दिनों तक का भी हो सकता है.कोरोना वायरस उन लोगों के शरीर से अधिक फैलता है जिनमें इसके संक्रमण के लक्षण दिखाई देते हैं. लेकिन कई जानकार मानते हैं कि व्यक्ति को बीमार करने से पहले भी ये वायरस फैल सकता है.बीमारी के शुरुआती लक्षण सर्दी और फ्लू जैसे ही होते हैं जिससे कोई आसानी से भ्रमित हो सकता है.

कितना घातक है

कोरोना वायरस?

कोरोना वायरस के संक्रमण के आँकड़ों की तुलना में मरने वालों की संख्या को देखा जाए तो ये बेहद कम हैं. हालांकि इन आंकड़ों पर पूरी तरह भरोसा नहीं किया जा सकता, लेकिन आंकड़ों की मानें तो संक्रमण होने पर मृत्यु की दर केवल एक से दो फ़ीसदी हो सकती है.

फ़िलहाल कई देशों में इससे संक्रमित हज़ारों लोगों का इलाज चल रहा है और मरने वालों का आँकड़ा बढ़ भी सकता है.

56,000 संक्रमित लोगों के बारे में एकत्र की गई जानकारी आधारित विश्व स्वास्थ्य संगठन का एक अध्ययन बताता है कि –

6 फ़ीसदी लोग इस वायरस के कारण गंभीर रूप से बीमार हुए. इनमें फेफड़े फेल होना, सेप्टिक शॉक, ऑर्गन फेल होना और मौत का जोखिम था.

14 फ़ीसदी लोगों में संक्रमण के गंभीर लक्षण देखे गए. इनमें सांस लेने में दिक्क़त और जल्दी-जल्दी सांस लेने जैसी समस्या हुई.

80 फ़ीसदी लोगों में संक्रमण के मामूली लक्षण देखे गए, जैसे बुखार और खांसी. कइयों में इसके कारण निमोनिया भी देखा गया.

क्या आप में है

कोरोना के लक्षण

अगर आप को लगता है की आप में भी कोरोना के लक्षण है तो सब से पहले ये काम करे

  • किसी से भी ना मिले और जल्द से जल्द मास्क पहन ले, डॉक्टर के पास एवं मेडिकल स्टोर्स पे ना जाय
  • आप के इलाके में मौजूद स्वास्थ्य कर्मचारी को या भारत सरकार द्वारा दिए गए नंबर पर कॉल करके उन्हें अपने वारे में जानकारी दीजिये। याद रखे की अगर आपको कोरोना हुआ है और आप अपनी जानकारी नहीं देते तो आप को कैद हो सकती है. क्युकी ये आप के साथ साथ दूसरे लोगो के लिए भी घातक हो सकता है।
  • फिर आपकी मेडिकल जांच होगी और आप स्वस्थ हो जाओगे
भारत सरकार ने

जारी की एडवाइज़री

भारत सरकार ने भी कोरोना वायरस के लक्षण मिलने पर तत्काल स्वास्थ्य केंद्र पर सूचना देने को कहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से 24 घंटे चलने वाला कंट्रोल रूम तैयार किया गया है. फोन नंबर 011-23978046 के माध्यम से कंट्रोल रूम में संपर्क किया जा सकता है. इसके अलावा [email protected] पर मेलकर के भी कोरोना वायरस के लक्षणों या किसी भी तरह की आशंकाओं के बारे में जानकारी ली जा सकती है.

क्या करें क्या नहीं

जनता कर्फ्यू

पीएम मोदी ने हाल ही में देश की जनता से अपील की थी कि वह 22 मार्च यानी रविवार को जनता कर्फ्यू का पालन करें। ये इसलिए किया जा रहा है, ताकि सोशल डिस्टैंसिंग की जा सके। ताकि कोरोना वायरस को फैलने से रोका जा सके। इस दिन सबको अपने घरों में रहना है। 

1- घर में ही रहें, बाहर ना निकलें
सबसे अहम ये है कि आप अपने घर में ही रहें और बाहर ना निकलें। यहां तक कि अपनी सोसाएटी में भी ना घूमें, पार्क में भी ना जाएं। मोदी सरकार ने जनता कर्फ्यू का आग्रह इसीलिए किया है, ताकि लोग एक दूसरे से ना मिलें। यह जनता कर्फ्यू सुबह 7 से रात के 9 बजे तक चलेगा।

2- कब बाहर निकल सकते हैं
यूं तो कोशिश करें कि घर से बिल्कुल ना निकलना पड़े, लेकिन अगर कोई मेडिकल इमरजेंसी आती है तो आप घर से निकल सकते हैं। अस्पताल जाने वालों को नहीं रोका जाएगा। साथ ही अपने आस-पास की दूध-ब्रेड की दुकान पर भी जाने के लिए आप निकल सकते हैं, क्योंकि ये जरूरी चीजें होती हैं, जिनके लिए आपको नहीं रोका जाएगा।

3- कौन लोग घर से निकल सकते हैं
पुलिस वाले, मीडिया वाले, डॉक्टर और सफाई की जिम्मेदारी वाले लोग घर से निकल सकते हैं, क्योंकि उनका काम बहुत ही जरूरी है। खुद पीएम मोदी ने कहा है कि इन लोगों का निकलना जरूरी है, क्योंकि उन पर एक बड़ी जिम्मेदारी होती है

4- शाम को 5 बजे बजाएं ताली, थाली या घंटी
पीएम मोदी ने सभी देशवासियों से एक खास आग्रह किया है कि वह शाम 5 बजे अपने खिड़की-दरवाजों पर खड़े होकर डॉक्टरों, पुलिस वालों, मीडिया कर्मियों, सफाई कर्मियों, होम डिलीवरी करने वालों का 5 मिनट तक आभार व्यक्त करेंगे। इसके लिए ताली बजा सकते हैं, थाली बजा सकते हैं या घंटी बजा सकते हैं। उन्होंने राज्य सरकारों से आग्रह किया है कि शाम को 5 बजे सायरन के जरिए लोगों को इसकी सूचना भी दी जाए।

5- सबसे अहम, हाथ धोते रहें
भले ही हम अपने घर में ही हैं, कहीं बाहर नहीं जा रहे, लेकिन हर 20 मिनट में कम से कम 20 सेकेंड तक हाथ जरूर धोएं। खाने से पहले और शौच के बाद हाथ जरूर धोएं भले ही आपने कुछ ही देर पहले हाथ क्यों ना धोया हो।

सोशल मीडिया पर फैली अफवाहों से बचें

सोशल मीडिया पर कई अफवाहें फ़ैल रही हैं, जिसमें कोरोना वायरस के इलाज का दावा किया जा रहा है। इस तरह के दावों में न फंसे क्योंकि कोरोना वायरस का फ़िलहाल कोई वैक्सीन नहीं है। कोरोना वायरस से बचने के लिए बचाव ही सबसे बड़ी दवा है।

Helpline Numbers

Free Corona Test

Share This Article

Get Free Estimation For Your Project